chalo fir se hum bache ban jate hai


Posted on 25th Feb 2020 11:31 am by sangeeta

होम-वर्क की डांट से बचने के बहाने बनाते हैं .. “उसने ये किया उसने वो लिया” जैसी चुगली करने जाते हैं .. शैतानी करके प्यारी सी मुस्कान से सबके दिल पिघलाते हैं .. चलो फिर से बच्चे बन जाते हैं । पापा की छड़ी से बचने को मम्मी की गोदी में छिप जाते हैं .. बड़ी बहन की नींद बिगाड़ कर फिर से सताते हैं.. घर आए मेहमान को अपनी कविता सुनाते हैं.. चलो फिर से बच्चे बन जाते हैं।

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

JAB AKELA HOTA HUN

Jab akela hota hoon, rula jaati hain unki yaaedin.

Fir wohi beeti baatein yaad dila jaati

BHARAT AZAD HUA THA

दूसरा पाकिस्तान कहलाया था|

सरहद न

Bol Na Yaad To Aati Hogi Na..

Ghanato Bath Kar Wo Baate Karna...

Ek Ek Meri Shararat Tumko Yaad To Aati Hogi Na...?

My Blessing In Life
Every morning I wake up and see,
The most handsome man lying next to me.
He's the one I cheris

Main Tujhse Juda Hokar

Main Tujhse Juda Hokar Kehta Bhi Kya.....???

Ke Tujhse Juda Hote Waqt, Mere Aankhon Mein

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash