Poetry

The Whole World Adopt Indian Culture

 

Have ever you thought.

.

.

.

The Whole World Adopt

AB HAME NIND NAHI AATI

Ab humein neend nahi aati,

Bas ek dastoor hai jo nibhana padta hai,

Subah hone hi

JAB AKELA HOTA HUN

Jab akela hota hoon, rula jaati hain unki yaaedin.

Fir wohi beeti baatein yaad dila jaati

KUCH PAL SAATH CHALEN

Kuchh pal saath chale to jaanaa,

Rastaa hai jaanaa pehchanaa.

 

Saan

NIND TO ABHI BHI NAHI AATI

नींद तो अब भी नहीं आती,

भुख तो अब भी

LIKHTI HU TUMHARE INTEZAAR MAI

लिखती हूँ मैं,

तेरे इजहार का इंतजा

me fariyad karta hun

मैं लिखता हूँ,

कागज और कलम से प्यार

AAJ AAYI HO TO

आज आई हो तो बस कह दो कि तुम वो बातें पू

SHAYAD TUMHEN YAAD NAHI

शायद तुम्हें याद नहीं, पर उस दिन कि बा

TUM SE MILNE AAYI HUN

क्या मुझसे मिलने आयी हो? कह दो ना तुम,

TERE CHEHRE KI TARIF HAI

तेरे चेहरे की क्या तारीफ़ है हर चीज़ इस

TO TUM HO KON

अगर अजनबी सी कोई हो तुम, फिर तुम्हें ख

TUM HO KON

अगर इश्क़ कोई जुर्म नहीं, फिर ये सजा क्

EK BAAR HIMAT JUTAYA BHI

एक बार हिम्मत जुटाया भी

लेकिन मात

SOCHTA HUN KAHUN

सोचता हूं कहूं वो इंकार न कर दें. .

MUJHE PYAAR HAI US LADKI SE

मुझे प्यार है उस लड़की से और मेरा प्य

TUM OR TUMHEN

मगर, सच तो यह है कि

प्यार तुम हो,

PYAAR EK SHABAD BHARA

प्यार, एक शब्द भर होता

तो पोंछ देती

KHWAAB HAI JISME

आंखे कितनी भी छोटी क्यो ना हो !!

ताक

NASEEB BADAL DE

वक्त से लड़कर जो नसीब बदल दे,

इन्सान

 

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS