khud se jada bharosa


Posted on 4th Feb 2020 06:20 pm by sangeeta

राजीव: ऐ दिल तू क्यों रोता है…!!!

ये दुनिया है यहाँ ऐसा ही होता है…!!!

धीरे धीरे बहुत कुछ बदल जाता है… लोग भी…रिश्ते भी…और ,,,

कभी-कभी हम खुद भी… !!

जिनपर सबसे ज्यादा भरोसा होता है…

अक्सर वक्त पडने पर वो ही साथ छोडते है…

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

A Summer Song
When as the rye reach to the chin,
And chopcherry, chopcherry ripe within,
Strawberries swimmi

naino me kajal

Aj mai nayano me kajal laga ke chali,

Palko par apki khubsoorat tasveer saja ke chali,

bade dino baad mile pata hi nahi chala

 

बड़े दिनों बाद, आँखों में हम एक द

mea mantar hun

वन्देमातरम गीत नहीं मैं मंत्र हूँ जी

KAASH KI PEHLE SAMAJH PATE

यूँ तेरी कुर्बत में जिऊंगा मैं, तू भी

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash