JEE LE APNI ZINDAGI


Posted on 21st Feb 2020 12:22 pm by sangeeta

सच तो है ये जिंदगी कुछ लम्हात

एहसासों की है बस कहानी

हर सासों और एहसासों में है ये

आनी जानी

 

हर पल लम्हे एहसासों में छुपे हैं

न जाने कितने ही मुखौटे

फेंक दो तुम भी अब ये मुखौटा

जो भीड़ में चलोगे तो बस

भेड़ बनके ही रहोगे………… ❣

 

फैकोगे जो ये मुखौटा

पाओगे खुद को पंछी

उड़ोगे तुम भी फिर

इस विशाल से गगन में ☄

सच तो है ये जिंदगी…..

 

ढूंढ लो इस भीड़ में भी

वो दो चमकती आंखें

हां – हां वही जो हैं बिन

मुखौटा

हां वही हैं अब तुम्हारी

बस तुम्हारी…………..

हां वही हैं सबसे प्यारी

तो बस बढे चलो, इन

एहसासों में , और जीलें

अपनी जिंदगी.

1 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

I'll Never Forget

I can't tell you how much my heart hurts every day.

It's full of anger, pain, and regrets

A Broken Heart

How do I mend a broken heart?

My entire world has fallen apart.

How do I find hop

KHUL GAYI HO JAISE KISMAT

कैसी उठी है दिल में, शरारत नई-नई…२

WO YAAD ATE HAI DIL MEIN

Woh yaad aaye bhulate bhulate,

dil ke zakham ubhar aaye chhupate chhupate,

sikhay

AANKHE JAGA NAHI KARTI

चूड़ियों के बीच तेरी गुस्से भरी आवाज

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash