Naam ke liye reh gayi


Posted on 25th Feb 2020 02:32 pm by sangeeta

पहले दोस्त, दोस्त की मदद करता था दोस्ती के लिए

आज दोस्त, दोस्त की मदद करता है अक्सर अपने स्वार्थ के लिए

 

पहले दोस्त पैसा दोस्त को दे देता था हमेशा के लिए

और दोस्त कैसे भी करके लौटाता था, मन के सुकून के लिए

 

आज कल दोस्ती तो लगता है, जैसे नाम के लिए रह गयी हैं

कितना सब बदल गए हैं और कितनी सोच भी बदल गयी हैं

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

tum jo sang bane raho

Tumhare karan har jeet se pyar hai mera

Mera seerat ye badhta rahega

Tum jo sang

HUM BADAL NA NAHI CHAHTE

हम राह को बदलना नहीं चाहते हैं,

हम

DESH BHAKRI

Behti jahan gyaan ki dhara,

Vo bharat hume jaan se pyara,

Sita ram ki dhara hai j

KUCHH LOG JADA JANTE HAI

कुछ लोग जो ज़्यादा जानते हैं, इन्सान

TO TUM HO KON

अगर अजनबी सी कोई हो तुम, फिर तुम्हें ख

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash