pita ki ek umid


Posted on 14th Feb 2020 02:20 pm by sangeeta

पिता एक उम्मीद है, एक आस है
परिवार की हिम्मत और विश्वास है,
बाहर से सख्त अंदर से नर्म है
उसके दिल में दफन कई मर्म हैं।

पिता संघर्ष की आंधियों में हौसलों की दीवार है
परेशानियों से लड़ने को दो धारी तलवार है,
बचपन में खुश करने वाला खिलौना है
नींद लगे तो पेट पर सुलाने वाला बिछौना है।

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

YAAD ME TERI YAARA

Dard apne dil ka humne

Ek arse ke bad khola hai

Bas bat ye alag hai

Ke da

HAMARE DESH BHAKTI

Na thi kisi ki himmat koi aankh na dikhata tha

Ab kaha chali gyi hain humari androoni sha

A Friend - By Sir Shotgun

A friend is the one who tells you the truth
regardless of the cost,
A friend will help

Tere pyar mein

Tere pyar mein khudko aisa khoya,

Na Din Mein Soya Na Raat mein Roya,

Ab To unki

MEHBUB KI YADEN

रात भर रोती रही वो आँखें,

जाने किसक

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash