TUMKO HI SOCHTA HAUN


Posted on 22nd Feb 2020 01:14 pm by sangeeta

तुमको ही सोचता हूँ तुमको ही ढूँढता हूँ

 

तुमको ही चाहता हूँ तुमको ही पूजता हूँ

 

तुम ही हो मेरी ज़िंदगानी

 

तुम ही हो मेरी अधूरी कहानी

 

तुम ही हो मेरे ख्वाबों की मल्लिका

 

मेरे खयालों में भी तुम ही तो बसी हो

 

तुम्हारी भोली बातें याद कर मुस्कुराता हूँ

 

तुमको उदास देख मैं भी रो जाता हूँ

 

तुम ही हो मेरे दिल के सबसे करीब

 

तुमको पाकर मैं हो गया हूँ सबसे खुशनसीब

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

CHHOTA YE SANSAAR

गांधी, तिलक, सुभाष, जवाहर का प्यारा यह

A Thought True To You

Roses are red,

Violets are blue.

Sugar is sweet,

And I love you.

hamari yaad ati hai

wo zindgi hi kya jisme mohobbat na ho.

wo mobbat hi kya jisme yaaden na ho 

Helen Keller

 

मैं कभी-कभार  ही अपनी कमियों क

A Dream within a Dream
Take this kiss upon thy brow!
And, in parting from you now,
Thus much let me avow—
You ar

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash