APNA AASMAN HOGA


Posted on 20th Feb 2020 01:05 pm by sangeeta

अरूजे कामयाबी पर कभी तो हिन्दुस्तां होगा ।

रिहा सैयाद के हाथों से अपना आशियां होगा ।।

चखायेगे मजा बरबादिये गुलशन का गुलची को ।

बहार आयेगी उस दिन जब कि अपना बागवां होगा ।।

वतन की आबरू का पास देखें कौन करता है ।

सुना है आज मकतल में हमारा इम्तहां होगा ।।

जुदा मत हो मेरे पहलू से ऐ दर्दें वतन हरगिज ।

न जाने बाद मुर्दन मैं कहां.. और तू कहां होगा ।।

यह आये दिन को छेड़ अच्छी नहीं ऐ खंजरे कातिल !

बता कब फैसला उनके हमारे दरमियां होगा ।।

शहीदों की चिताओं पर जुड़ेगें हर बरस मेले ।

वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशां होगा ।।

इलाही वह भी दिन होगा जब अपना राज्य देखेंगे ।

जब अपनी ही जमीं होगी और अपना आसमां होगा ।।

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

LAGTA HAI US SE MOHABBAT HONE LAGI HAI

Surat na dekhi maine uski 

Moorat phir bhi uski ban ne lagi hai 

Din ko

sab mere karmo ka fal hai

Tere jaisa yaar kahan

 

Kahan tere jaisa yarana..

 

Yaa

AASHIKI ME BASS

आशिकी में है बस दर्द ही दर्द  खुशी क

kuch dost purane yaad ate hai

मैं यादों की किताब खोलू तो कुछ हंसते

sankat apna bal sakha

संकट अपना बाल सखा है, इसको कठ लगाओ

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS