MERE DESH KO JAGRAT BANAO


Posted on 20th Feb 2020 01:04 pm by sangeeta

“मन जहां डर से परे है

और सिर जहां ऊंचा है;

ज्ञान जहां मुक्*त है;

और जहां दुनिया को

संकीर्ण घरेलू दीवारों से

छोटे छोटे टुकड़ों में बांटा नहीं गया है;

जहां शब्*द सच की गहराइयों से निकलते हैं;

जहां थकी हुई प्रयासरत बांहें

त्रुटि हीनता की तलाश में हैं;

जहां कारण की स्*पष्*ट धारा है

जो सुनसान रेतीले मृत आदत के

वीराने में अपना रास्*ता खो नहीं चुकी है;

जहां मन हमेशा व्*यापक होते विचार और सक्रियता में

तुम्*हारे जरिए आगे चलता है

और आजादी के स्*वर्ग में पहुंच जाता है

ओ पिता

मेरे देश को जागृत बनाओ”

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

The One I Love

You're the one for me

'cause you were made just for me.

Now I'm standing in front

Sometimes I Feel Like Crying

But I have to be honest

I just don't know-how

My heart aches

For yet anot

Once A Year Is Not Enough

Once a year is not enough.

I need every day

To tell you, special Love,

Al

pyaar fir se hone laga

 

सपने लेने छोड़ दिया था, लगा था तन

She Is The Best

Her nature is the best.

Her smile has life.

Her eyes are full of love.

Sh

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash