BALIDAAN TUMHEN KARNA HOGA


Posted on 21st Feb 2020 01:25 pm by sangeeta

वह खून कहो किस मतलब का

जिसमें उबाल का नाम नहीं।

वह खून कहो किस मतलब का

आ सके देश के काम नहीं।

वह खून कहो किस मतलब का

जिसमें जीवन, न रवानी है!

जो परवश होकर बहता है,

वह खून नहीं, पानी है!

उस दिन लोगों ने सही-सही

खून की कीमत पहचानी थी।

जिस दिन सुभाष ने बर्मा में

मॉंगी उनसे कुरबानी थी।

बोले, “स्वतंत्रता की खातिर

बलिदान तुम्हें करना होगा

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

meri pyaari maa

मेरी प्यार माँ तू कितनी प्यारी है माँ

Celebrate Your Life

 

Celebrate the spirit of life

For it gives you so much you may never know

Zindgi ke bahumulya

जिंदगी के बहुमूल्य पल बन जाते हैं, लम

KUCHH LOG JADA JANTE HAI

कुछ लोग जो ज़्यादा जानते हैं, इन्सान

Heartbroken..

You broke my heart

And won't repair it

You took my love

and won't give it

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash