BHULE MAANAS KO DILATE NETA


Posted on 21st Feb 2020 01:24 pm by sangeeta

गली गली में बजते देखे आज़ादी के गीत रे |

जगह जगह झंडे फहराते यही पर्व की रीत रे ||

सभी मनाते पर्व देश का आज़ादी की वर्षगांठ है |

वक्त है बीता धीरे धीरे साल एक और साठ है ||

बहे पवन परचम फहराता याद जिलाता जीत रे |

गली गली में बजते देखे आज़ादी के गीत रे |

जगह जगह झंडे फहराते यही पर्व की रीत रे ||

जनता सोचे किंतु आज भी क्या वाकई आजाद हैं |

भूले मानस को दिलवाते नेता इसकी याद हैं ||

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

EK HISSA HINDUSTAN THA

जब भारत आज़ाद हुआ था|

आजादी का राज ह

JINDGI YE JINDGI KAISI HAI YE JINDGI
JINDGI YE JINDGI KAISI HAI YE JINDGI JINDGI YE JIDGI KAISI HAI YE JINDGI HAR KADAM PAR MOD HAI RA

safar me dhoop

यही है ज़िन्दगी कुछ ख़्वाब चन्द उम्म

A Balanced Diet
I eat a balanced diet,
I do it day and night—
a pound of brownies on my left,
a po

I Light The Torch

I light a torch and hold it high

It shines so bright it lights the sky

You see th

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash