ek adhoori mohabbat


Posted on 14th Feb 2020 01:02 pm by sangeeta

कैसे जीऊ मैं खुशहाल ज़िन्दगी
उसकी मोहब्बत ने हमको मारा हैं

रखा था जो दिल संभाल कर
उस दिल को हमने हारा हैं

बनता हैं महफ़िलो की शान वो
पर बनता ना मेरा सहारा हैं

दूर भी हम कैसे रह सकते हैं
इंसां वो सबसे लगता प्यारा हैं

जाए कहा अब उसे छोड़ कर
बिन उसके ना अब गुजारा हैं

इंतजार में कटते हैं दिन और रात
दूजा ना अब कोई और चारा हैं

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

A sidelong glance
A sidelong glance,
A funny remark!
Glittering eyes
Meeting in the dark.
Fear

You Will Never See Me Fall Like

You may see me struggle,

but you won't see me fall.

Regardless if I'm weak or not

Usko Paney Ki chahat

रंजिश क्या करे हम उनसे

ये अपना दिल

jindgi ki achhai or burai

जितना भी अच्छा कर लो दोस्तो के लिए 

jiwan hi hai sundarta

वह जीवन भी क्या जीवन है,

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash