ek adhoori mohabbat


Posted on 14th Feb 2020 01:02 pm by sangeeta

कैसे जीऊ मैं खुशहाल ज़िन्दगी
उसकी मोहब्बत ने हमको मारा हैं

रखा था जो दिल संभाल कर
उस दिल को हमने हारा हैं

बनता हैं महफ़िलो की शान वो
पर बनता ना मेरा सहारा हैं

दूर भी हम कैसे रह सकते हैं
इंसां वो सबसे लगता प्यारा हैं

जाए कहा अब उसे छोड़ कर
बिन उसके ना अब गुजारा हैं

इंतजार में कटते हैं दिन और रात
दूजा ना अब कोई और चारा हैं

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

MAN SE SWIKAR

एक पहल रिश्ते की ओर (कविता का शीर्षक )

Chandni raaton mein jab

Chaandni Raaton Mein Jab Tu Dekhegi Us Chaand Ko Tab....

Hum Uss Chaand Se Tujhe, Tujh Ko

Fursat Mile To Dil Ko Ye Samjha Jao Kisi Din

Ek Mohabat Ke Rishte Ko Nibha Jao Kisi Din,

 

Jo Mil Jaye Kabhi Fursat To Pa

If I Could Tell You
When I see you in the morning
it brightens up my day
there are so many thoughts on my mind

agar tum hame milte to kya tumhe ehsas hota

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Google+ Indyaspeak @ Pinterest RSS