ishq hi khuda hai


Posted on 14th Feb 2020 01:02 pm by sangeeta

जो मिला मुसाफ़िर वो रास्ते बदल डाले
दो क़दम पे थी मंज़िल फ़ासले बदल डाले

आसमाँ को छूने की कूवतें जो रखता था
आज है वो बिखरा सा हौंसले बदल डाले

शान से मैं चलता था कोई शाह कि तरह
आ गया हूँ दर दर पे क़ाफ़िले बदल डाले

फूल बनके वो हमको दे गया चुभन इतनी
काँटों से है दोस्ती अब आसरे बदल डाले

इश्क़ ही ख़ुदा है सुन के थी आरज़ू आई
ख़ूब तुम ख़ुदा निकले वाक़िये बदल डाले

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

MAN SE SWIKAR

एक पहल रिश्ते की ओर (कविता का शीर्षक )

TUMKO HI SOCHTA HAUN

तुमको ही सोचता हूँ तुमको ही ढूँढता हू

three frog baby

Three baby frogs grandma said not to bother
maa sine se laga dil ko rahat de

हम सबको अकेला तू क्यों छोड़ गयी

अपन

AAO AJADI DIWAS BANAY

बच्चा-बच्चा बन जाए सैनिक, गर बुरी नजर

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Google+ Indyaspeak @ Pinterest RSS