ishq hi khuda hai


Posted on 14th Feb 2020 01:02 pm by sangeeta

जो मिला मुसाफ़िर वो रास्ते बदल डाले
दो क़दम पे थी मंज़िल फ़ासले बदल डाले

आसमाँ को छूने की कूवतें जो रखता था
आज है वो बिखरा सा हौंसले बदल डाले

शान से मैं चलता था कोई शाह कि तरह
आ गया हूँ दर दर पे क़ाफ़िले बदल डाले

फूल बनके वो हमको दे गया चुभन इतनी
काँटों से है दोस्ती अब आसरे बदल डाले

इश्क़ ही ख़ुदा है सुन के थी आरज़ू आई
ख़ूब तुम ख़ुदा निकले वाक़िये बदल डाले

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

A Book of Verse
A book of verse, underneath the bough,
A jug of wine, a loaf of bread - and thou
Beside me sin

chalna hamara kaam hai

Gati prabal pairon mein bhari

Phir kyun rahoon dar dar khada

Jab aaj mere saamne,

Par bolo toote pyaalon par

Jeevan mein madhu ka pyaala tha

 

Tumne tan man mein daala tha

 

It's All About Time

Tick tock...tick tock...

Life is counting down on your internal clock.

 

desh ki mitti

देश की माटी देश का जल

हवा देश की दे

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash