HAMARE MILNE KA PATA


Posted on 3rd Mar 2020 06:10 pm by sangeeta

एक दिन हमारे मिलने का पता होगा,कोई तो किनारा होगा

 

जहां हमारा मिलना होगा,मिलने की हकीकत सोचकर

 

इन मुस्कान आ जाती है , चेहरे पर

 

कोई तो होगा जो हमे मिलवाने की वजह होगा

 

तुम अश्क  पर कहोगे,हम वहां चले आयंगे

 

तुम चाँद पर कहोगे,,हम चाँद जमीन पर उतार  लाएंगे

 

बस एक बार अर्ज तो करो ,,समुन्द्र के बिच हम अपना,

 

आशियाँ बनाएंगे, तुम कहोगे तो तुम्हारे लिए गुनगुनायेंगे

 

बस ये बताओ  , तुम किस घडी आओगे

 

कारवां चल दिया है  बस  तुम्हाता आना बाकि है

 

वो कोन  सा  पता है, जहां मिलना बाकि है।

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

SHAYAD TUMHEN YAAD NAHI

शायद तुम्हें याद नहीं, पर उस दिन कि बा

BHUL KAR BHI TUJHE NA BHULE

Tujhe Bhool Kar Bhi Na Bhool  

Payenge HumBas Yahi Ek Wada Nibha 

A Farewell
With all my will, but much against my heart,
We two now part.
My Very Dear,
Our solace i

Fall in True Love

 

True love is measured by how deep you fall

And judged by how low you are w

tum jo kehte hume

Tum jo kahte hume

Hum jaan laga dete

Aangan aapka sajane

Hum sara aasman

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash