hamari dosti kya hai


Posted on 14th Feb 2020 12:53 pm by sangeeta

कभी जमीं कभी फ़लक भी हैं,
दोस्ती झूठ भी हैं सच भी हैं,
दिल में रह जाए तो कसक भी हैं,
कभी ये हर भी हैं जीत भी हैं,

दोस्ती साज भी हैं संगीत भी हैं,
शेर भी नमाज़ भी गीत भी हैं,
वफ़ा क्या हैं वफ़ा भी दोस्ती हैं,
दिल से निकली दुआ भी दोस्ती हैं,

बस इतना समझ ले तू
एक अनमोल हिरा हैं दोस्ती।

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

KISI OR KO UDHAR DIYA TUMNE

छुप छुप के जो तरसाया था

देखा होगा र

Har pal tum hi yaad aao

Har pal ne kaha ek pal se…

Pal bhar ke liye aap mere samne aa jao…

HUA KUCH YOON

Hua kuch yoon ek roz

Bhai bola garmi hai tez

Pehle jab kaha tha AC lelo

T

-koi diwana tha tere pyaar me

koi pagal kehta hai to koi diwana kehta hai

me tumse dur kese rahun tu mujhse dur kese ra

BALIDAAN TUMHEN KARNA HOGA

वह खून कहो किस मतलब का

जिसमें उबाल

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash