mera sacha sathi


Posted on 14th Feb 2020 12:57 pm by sangeeta

कहीं देखा हैं तुमने उसे
जो मुझे सताया करता था
जब भी उदास होती थी मैं
मुझे हँसाया करता था
एक प्यार भरा रिश्ता था वो मेरा
जो मुझे अब भी याद आता हैं
खो गया वक्त के भँवर में कहीं
जो हर पल मेरे साथ होता था
आज एक अजनबी की तरह हाथ मिलाता हैं
जो छोटी से छोटी बात मुझे बताया करता था
कहीं मिले वो किसी मोड़ पर
तो उसे मेरा संदेशा देना
कोई हैं जो आज भी उसका इंतजार कर रहा हैं
जिसे वो मेरा सच्चा साथी बोला करता था |

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

Duniya bhi dekhi aur duniyadari bhi... dekhi maine hoti gaddaari bhi...

Duniya bhi dekhi aur duniyadari bhi dekhi...
dil par maine chalti hui dildaari bhi dekhi...

Celebrate Your Life

 

Celebrate the spirit of life

For it gives you so much you may never know

mulakat dhundta rehta hun

बातों से जिसकी टीस सी होती है उसी से र

5'6" jiski height ho...

5'6" jiski height ho,
.
.
Chehra jiska bright ho,
.
.
Weight

jub tak tu mera tha tub tak me teri thi

Ha us vaktt tak me teri thi 

Jab tak Tu Meri Thi

Vo pal vo raate vo yaade Sa

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash