mera sacha sathi


Posted on 14th Feb 2020 12:57 pm by sangeeta

कहीं देखा हैं तुमने उसे
जो मुझे सताया करता था
जब भी उदास होती थी मैं
मुझे हँसाया करता था
एक प्यार भरा रिश्ता था वो मेरा
जो मुझे अब भी याद आता हैं
खो गया वक्त के भँवर में कहीं
जो हर पल मेरे साथ होता था
आज एक अजनबी की तरह हाथ मिलाता हैं
जो छोटी से छोटी बात मुझे बताया करता था
कहीं मिले वो किसी मोड़ पर
तो उसे मेरा संदेशा देना
कोई हैं जो आज भी उसका इंतजार कर रहा हैं
जिसे वो मेरा सच्चा साथी बोला करता था |

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

24th year
Merely a boy 24 years old,
Mysteries of life, stories untold.

24 summers made me grow,

zindgi hi ti hai

ज़िन्दगी ही तो है थोड़ा और सीखा देगी 

KAHIN YE MERI ZINDAGI TO NAHI

इन अंधेरों में मुझे एक रौशनी सी दिखती

Tum chalo dagar pe,

Insan ki dagar par batcho ke,

Yr desh hai tumhara neta to tum ho kal ke,

Duniyan

Lovers
You were glad to-night: and now you’ve gone away.
Flushed in the dark, you put your dreams to b

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Google+ Indyaspeak @ Pinterest RSS