Helen Keller


Posted on 21st Jan 2020 03:06 pm by rohit kumar

 

मैं कभी-कभार  ही अपनी कमियों के ,

बारे में सोचती हूँ , और वो मुझे कभी ,

दुखी नहीं करते , शायद एक-आध बार ,

थोड़ी पीड़ा होती है ; 

पर वह फूलों के बीच में हवा के ,

झोंके के समान अस्पष्ट है |

1 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

veero ka safar

देख तेरा हौसला बुलंद अपार

 

तन

apne daman mein chupa loon tujhko

Mein apne daman mein chupa loon tujhko.

Dil karta hai apna bana loon tujhko.

Marr

Bhuka Boyfriend

 

अजब सी हालत है तेरे जाने के बाद,

sachi dosti

दोस्ती का रिस्ता होता है खास ,

जो ह

JAB AKELE HOTE

Jab akela hota hoon, rula jaati hain unki yaaedin.

Fir wohi beeti baatein yaad dila jaati

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Google+ Indyaspeak @ Pinterest RSS