NA RAAT DEKHI NA DIN


Posted on 4th Mar 2020 12:50 pm by sangeeta

चाँद को भी हमने तुम्हारे लिए सजाया है

दिल का दरवाजा भी हमने तुम्हारे लिए खटखटाया  है।

रात को हमने जुगनू को भी जगाया है।

हर घडी हमारे पास तुम्हारा साया है।

हर पहर ,हर घडी

बस सबको तुम्हारे मिलने का पता बतलाया है.

बस एक आरजू से हमने अपना आँशिया बनाया है.

ना दिन देखा, ना रात देखी ,

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

sachi dosti

दोस्ती का रिस्ता होता है खास ,

जो ह

Back To Strangers

We started as strangers.

We fell and became lovers.

We started with a, "Hi,"

dil lagana asaan hai

Pyar Karna Aasan Hota Hai,

Pyar Nibhana NahiAasu Bahana Aasan Hota Hai, 

Gam

tumhe pata na chala

यूँ तो शराफत और सादगी लुभाती थी मुझको

Live Life.
Life is crazy,
and totally unpredictable...
It's going to push you over,
kick you while yo

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash