Teri Dosti Par Naaj Bhi Hain


Posted on 20th Jan 2020 05:34 pm by rohit kumar

तेरी कमी भी है, तेरा साथ भी है,

तू दूर भी है, तू पास भी है…

 

खुदा ने यूँ नवाज़ा तेरी दोस्ती से,

मुझे गुरुर भी है और नाज़ भी है…

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

hum dono hamesha dost rahenge

हर सुख दुःख में, साथ साथ जीया करते थे।<

DOR MANTHAN KE

यह नियम है

भावनाओं के आवेश में

VIDHYALAY ME SABHA

विद्यालय में सभा की समाप्ति पर,

गु

BHULE MAANAS KO DILATE NETA

गली गली में बजते देखे आज़ादी के गीत रे |

na jaane kahan bitate hai

दोस्ती किस तरह निभाते हैं, मेरे दुश्म

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS