INTEZAAR ME KATE HAI DIN


Posted on 27th Feb 2020 04:24 pm by sangeeta

कैसे जीऊ मैं खुशहाल ज़िन्दगी

उसकी मोहब्बत ने हमको मारा हैं

 

रखा था जो दिल संभाल कर

उस दिल को हमने हारा हैं

 

बनता हैं महफ़िलो की शान वो

पर बनता ना मेरा सहारा हैं

 

दूर भी हम कैसे रह सकते हैं

इंसां वो सबसे लगता प्यारा हैं

 

जाए कहा अब उसे छोड़ कर

बिन उसके ना अब गुजारा हैं

 

इंतजार में कटते हैं दिन और रात

दूजा ना अब कोई और चारा हैं

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

Pyara Hindustan Hain

 

अमरपुरी से भी बढ़कर के जिसका गौ

MUJHE BHI KHABAR NAHI

कोई आहट होती है ना,

तो लगता है जैसे

Secret Love

I love you so much.

Please never doubt this is true.

But I'm having such

jub tak tu mera tha tub tak me teri thi

Ha us vaktt tak me teri thi 

Jab tak Tu Meri Thi

Vo pal vo raate vo yaade Sa

Back To Strangers

We started as strangers.

We fell and became lovers.

We started with a, "Hi,"

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash