INTEZAAR ME KATE HAI DIN


Posted on 27th Feb 2020 04:24 pm by sangeeta

कैसे जीऊ मैं खुशहाल ज़िन्दगी

उसकी मोहब्बत ने हमको मारा हैं

 

रखा था जो दिल संभाल कर

उस दिल को हमने हारा हैं

 

बनता हैं महफ़िलो की शान वो

पर बनता ना मेरा सहारा हैं

 

दूर भी हम कैसे रह सकते हैं

इंसां वो सबसे लगता प्यारा हैं

 

जाए कहा अब उसे छोड़ कर

बिन उसके ना अब गुजारा हैं

 

इंतजार में कटते हैं दिन और रात

दूजा ना अब कोई और चारा हैं

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

Blinded By Love

You keep running from the truth; you know it's true.

You think I am crazy for loving you.

HAMNE GALE LAGAYA SUB KO

बहती जहाँ ज्ञान की धारावो भारत हमें ज

In Good Time...

Life can seem an endless maze,

The twists and turns, lulls and delays,

But things

Teenage Princess

I know how it is to need money--

As much as I can get;

My teenager goes to the ma

desh bhakti geet

सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में ह

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash