ab dost bahut yaad ate hai


Posted on 18th Feb 2020 11:42 am by sangeeta

मैं यादों का पिटारा खोलू तो, कुछ दोस्त बहुत याद आते है।

मैं गांव की गलियों से गुजरू पेड़ की छांव में बैठू तो,

कुछ दोस्त बहुत याद आते है। वो हंसते मुस्कुराते दोस्त

ना जाने किस शहर में गुम हो गए, कुछ दोस्त बहुत याद आते है।

कोई मैं में उलझा है तो कोई तू उलझा है नहीं सुलझ रही है अब इस जीवन की गुत्थी,

अब दोस्त बहुत याद आते है।

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

Uljha-sa aaj mein hue

Zindagi hansne-gaane ka naam hai,

Hans kar palon ko jiye ja,

Gaakar gamon ko piye

ALFAZON KI KAMI

रात की इस ख़ामोशी में

इस कलम की सरगो

The Cake Of Friendship

Preheat the oven of love

With plenty of secrets and hugs.

 

Mix in g

Some Flowers For You

A rose for every year,

many smiles for every tear

Way more of the first than ever

saanso me tum

Saanso mei basne laga hai tu

Neendo mei jagane laga hai tu

Duao mei aane laga hai

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash