BHAWNA KA SVATANTRA GYAAN HAI


Posted on 25th Feb 2020 06:23 pm by sangeeta

तीन-चार फूल है,

आस-पास धूल है,

बाँस है -बबूल है,

घास के दुकूल है,

वायु भी हिलोर दे,

फूँक दे, चकोर दे,

कब्र पर मज़ार पर, यह दिया बुझे नहीं,

यह किसी शहीद का पुण्य-प्राण दान है।

झूम-झूम बदलियाँ

चूम-चूम बिजलियाँ

आँधियाँ उठा रहीं

हलचलें मचा रहीं

लड़ रहा स्वदेश हो,

यातना विशेष हो,

क्षुद्र जीत-हार पर, यह दिया बुझे नहीं,

यह स्वतंत्र भावना का स्वतंत्र गान है।

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

niyam hai jiwan ka

परिवर्तन नियम है जीवन का,
Love & Friendship

You're the one I most admire

with great intentions and loving desires.

Passion an

YE MERE DESH KI NAHI HAI

हीं, ये मेरे देश की आंखें नहीं हैं

Find Your Drive

Sometimes you have to push yourself just to get out of bed.

You stay up 'til 2 am just wi

Forgiveness Is Precious

Some people view forgiveness,

As a virtue for the weak.

An act of Mercy undeserve

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash