DUNIYAN ISHARYA KUN KARTI HAI


Posted on 28th Feb 2020 04:37 pm by sangeeta

क्यों यह दुनिया दूसरे से इतनी ज्यादा ईर्ष्या करती है ...?

अगर अपनों की खुशी देखी नहीं जाती ।।एक दूसरे का पैर खींचता है।

क्यों यह दुनिया दूसरे से इतनी ज्यादा ईर्ष्या करती है ...?

अगर अजनबियों का प्यार नहीं देखा जाता ।।प्रियजनों के साथ झगड़ा।

क्यों यह दुनिया दूसरे से इतनी ज्यादा ईर्ष्या करती है ...?

अपने प्रियजनों को खोजने के लिए दूसरे का उपयोग करता है।

तब क्यों ..लोगों के सामने दिखावा?

क्यों यह दुनिया दूसरे से इतनी ज्यादा ईर्ष्या करती है ...

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

Dil ko kisi ki aas nahi

दिल को किसी की आस नहीं है,

आंखों मे

The Hardest Thing I'll Ever Do
The hardest thing I'll ever do
is let go of you
And look forward instead of back to my past <

Messy Room

Whosever room this is should be ashamed!

His underwear is hanging on the lamp.

Hi

tumhare naam ki mehndi

Tere naam ki mehendi sajai maine hatho mei

Tujhko chupaya maine apni sanso mei

Ch

Respect Your Love

 

mohabbat mein shiddat mayne nahi rakhti

mohabbat

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash