Friendship Poems

Dosti kya hai

क्या खबर तुमको दोस्ती क्या हैं

ये

har uski ladai mein

दोस्ती में हमने दोस्तो को नजराना पेश

hume akele chodne ka irada kun

दोस्ती का वादा किया था।,साथ निभाने का

mujhe kya fikar

उलझनों और कश्मकश में उम्मीद की ढाल लि

doston dekho insaan kahan se kahan ja raha hai

अपने दोस्त को जो उधार दे वो मूर्ख कहल

Naam ke liye reh gayi

पहले दोस्त, दोस्त की मदद करता था दोस्

hausla khud aa jayega..

Bus yahi dua mangi thi bhagwaan se,

 

Dena mujhe hausna ladne ka insaan se,<

sab mere karmo ka fal hai

Tere jaisa yaar kahan

 

Kahan tere jaisa yarana..

 

Yaa

sala tumhe loot kar hi khayega

Na jaane kaha hai aya hai…

 

Na jaane kaha ko jaega..

 <

jaisa bhi hai mera sachcha yar hai tu

Sach bol raha hun dost.. Dhyan se padhna,

 

mere dil ka guitar hai tu,

log kehte hai jamin par kisi ko khuda nahi milta

लोग कहते हैं ज़मीं पर किसी को खुदा नह

YEH ROVIEW AGAR HO BHI JAYE TO KYA

eh Document, Yeh Meetings, Yeh Features Ki Duniya,

Yeh Insaan Ke Dushman, Cursors Ki Duni

kuch dost purane yaad ate hai

मैं यादों की किताब खोलू तो कुछ हंसते

dost ke door ho jane ke baad

मैं ना जानू दोस्त तेरे दूर हो जाने के

kuchh pal ki bate

कुछ पल की बातें, कैसे दोस्ती में बदल ग

ab dost bahut yaad ate hai

मैं यादों का पिटारा खोलू तो, कुछ दोस्

wo dot kahan gum gay

ना जाने वो दोस्त कहां गुम हो गया जिसक

sachi dosti me har ek naya rishta mil jata hai

प्यार को मत समझो पूरा उसका पहला अक्षर

na jaane kahan bitate hai

दोस्ती किस तरह निभाते हैं, मेरे दुश्म

saadgi ka soch

तू कर रहा सफ़र ,करके बन्द दरवाज़ा

 

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash