KAHIN YE MERI ZINDAGI TO NAHI


Posted on 21st Feb 2020 12:16 pm by sangeeta

इन अंधेरों में मुझे एक रौशनी सी दिखती है…

 

कहीं ये मेरी ज़िन्दगी तो नहीं!

 

जैसे वादियों में शामिल कोई नमी सी दिखती है…

कहीं ये मेरी ज़िन्दगी तो नहीं!

 

में तन्हां बैठा हूँ, किसी पेड की छांव में और वो फुल की एक कली सी दिखती है…

कहीं ये मेरी ज़िन्दगी तो नहीं!

 

हो शामिल जैसे हर जश्न में एक ख़ुशी और वो ख्वाबों की परी सी दिखती है…

कहीं ये मेरी ज़िन्दगी तो नहीं!

 

जब हर चीज को पाने को मचलता हूँ में, और वो खिलखिलाती एक तितली सी दिखती है

कहीं ये मेरी ज़िन्दगी तो नहीं!

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

You Are My Life

 

You have come into my life

And it changed with a blink of an eye

Y

Remember The First Meet

I remember the first time you talked to me,

I wasn't sure what to do.

No one ever

It Is Gone

The way I used to smile,

and love our favorite song

The way it felt so right

ZIKR TERI OR MERI BATON KE

Zikr tera meri baaton me hone laga hai, 

Tera har khwaab aankhon me rehne laga hai,<

Tamna Thi Kisi Ko Pany Ki >_

Buhat Tamna Thi Kisi Ko Pany Ki,

Buht Tamna Thi Kisi Ka Hojany ki,

Pr Kia Pta Tha

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash