KARNE WALE KAAM BAHUT HAI


Posted on 26th Feb 2020 01:24 pm by sangeeta

करनेवाले काम बहुत हैं व्यर्थ उलझनों को छोड़ो,

मुल्ला-पंडित तोड़ रहे हैं तुम खुद अपनों को जोड़ो|

भूख,बीमारी,बेकारी,दहशत गर्दी को मिटाना है,

ग्लोबल-वार्मिंग चुनौती से अपना विश्व बचाना है|

हम बदलें तो युग बदले बस मंत्र यही है सुधरने का

वन्देमातरम गीत नहीं मैं मंत्र हूँ जीने-मरने का|

 

चंदा-तारे सुख देते पर पोषण कभी नहीं देते,

केवल धरती माँ से ही ये वृक्ष जीवन रस लेते|

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

hum veer jawan

जाग रहे हम वीर जवान,

BAS THODI DER

बस थोड़ी सी देर के लिए तुम्हारा मुझसे

KUCH PAL SAATH CHALEN

Kuchh pal saath chale to jaanaa,

Rastaa hai jaanaa pehchanaa.

 

Saan

bana le apna shastar tu

tu khud ki khoj mein nikal

 

tu kis liye hataash hai

 

Now We Are Six

When I was One,

I had just begun.

When I was Two,

I was nearly new.

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash