MAN SE SWIKAR


Posted on 18th Feb 2020 11:15 am by sangeeta

एक पहल रिश्ते की ओर (कविता का शीर्षक )

सुनो… सुनो न!

कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें

और बदलके इस रिश्ते को ढेर सारा प्यार देते हैं !

चलो न, वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं!

जो गलतियां तुमने की हैं, जो गलतियां मैंने की हैं!

साथ बैठके आज उन्हें सुधार लेते हैं

चलो न, वक़्त रहते इस रिश्ते को सवार लेते हैं

प्यार तुमको भी है, प्यार हमको भी है

आओ इस बात को मन से स्वीकार लेते हैं!

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

Farz hai jo umar bhar nibhana hai

सुख-दुख के अफसाने का

ये राज है सदा

I Need It From You

Sometimes I'm confused and don't know what to do,

I need help and I need it from you.

Silent Noon
Your hands lie open in the long fresh grass,--
...The finger-points look through like rosy blooms

Doggy Heaven...

All doggies go to heaven (or so I've been told).
They run and play along the streets of Gol

AASHIKI ME BASS

आशिकी में है बस दर्द ही दर्द  खुशी क

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash