milte agar hum to kya ehsaas hota


Posted on 7th Feb 2020 10:15 am by sangeeta

मिलते अगर हम तो क्या एहसास होता

धड़कते दिल में क्या क्या ज़ज़्बात होता

बहते आँखों से आंसू, या लब खिलखिलाते

या दोनों के संगम का, एक साथ एहसास होता

करते ढेर सारी बातें, या चुप मुस्कुराते

चलते साथ साथ और हाथो में हाथ होता

रुकते फिर बहाने से, देखने को आखें

निगाहों ही निगाहों में, उमड़ता वो प्यार होता

बैठ कर कही, सीने से तेरे लग जाते

रुक जाए अब पल यही, ऐसा विचार होता

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

Why Mother is so special?
When I came home in the rain, Brother asked why you didn’t take an umbrella. Sister advise

Intzaar Kahte Hai

इंकार को इकरार कहते हे
AAPKI LADAI KOI OR LAD RAHA HAI

 

LADO 

LAD NAHI SAKTE TO BOLO

BOLL NAHI SAKTE TO LIKHO

DOR MANTHAN KE

यह नियम है

भावनाओं के आवेश में

Standing Alone

I can see the flower upon which my life grows, blooming into a rose.

See the hope an

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS