NIND TO ABHI BHI NAHI AATI


Posted on 16th Mar 2020 05:29 pm by sangeeta

नींद तो अब भी नहीं आती,

भुख तो अब भी नहीं लगती,

दिल और दिमाग की लड़ाई तो अब भी होती है,

पर अब, तुमसे प्यार नहीं है।

तेरे नाम पे आज भी चुप हो जाता हूँ,

आज भी बोलते- बोलते लड़खड़ा जाता हूँ,

कभी- कभी ही सही, पर तुम्हें याद तो आज भी कर लेता हूँ,

पर आज, तुमसे प्यार नहीं है।

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

tumse jab bate shuru hui

उस एक दिन जब बातें शुरू हुई तुमसे लगा

KOI DEEWANA THA

Koi Deewana Kehta HaiKoi deewana kehta hai,koi paaga

samajhta hai

magar dharti ki

nadiyon se dhanwan

वेदों के मंत्रों से गुंजित स्वर जिसक

If I Were Her Lover
I

If I were her lover,
I'd wade through the clover
Over the fields before
The gat

Cigarette peene wala

Daru aur Cigarette peenewala insaan

kabhi matlabi

nahi hota...

Jise apni

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Google+ Indyaspeak @ Pinterest RSS