NIND TO ABHI BHI NAHI AATI


Posted on 16th Mar 2020 05:29 pm by sangeeta

नींद तो अब भी नहीं आती,

भुख तो अब भी नहीं लगती,

दिल और दिमाग की लड़ाई तो अब भी होती है,

पर अब, तुमसे प्यार नहीं है।

तेरे नाम पे आज भी चुप हो जाता हूँ,

आज भी बोलते- बोलते लड़खड़ा जाता हूँ,

कभी- कभी ही सही, पर तुम्हें याद तो आज भी कर लेता हूँ,

पर आज, तुमसे प्यार नहीं है।

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

MUSHKILEN ZARUR HAI

मुश्किलें जरुर है, मगर ठहरा नही हूं म

CINDY WILLIAMS GUTIÉRREZ

JYOTI KA VITAAN HAI

यह अतीत कल्पना,

यह विनीत प्रार्थन

pyaar hota h hazaro me ek se

हज़ार लड़के प्यार नही करते 

हज़ा

Marital Rape of a Man
With dreams of Happy life
got married and brought home his wife
with zillion thoughts he enter

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS