LIKHTI HU TUMHARE INTEZAAR MAI


Posted on 16th Mar 2020 03:45 pm by sangeeta

लिखती हूँ मैं,

तेरे इजहार का इंतजार करती हूँ,

क्यूं जाने तुझमें हर रोज अपनी तलाश करती हूँ,

मिलने का तुमसे दिन – रात आस रखती हूँ,

तस्वीर तेरी अपने पास रखती हूँ,

एक मुस्कान के लिए तेरी में इतनी बार हार सकती हूँ,

तेरी हर बुरी आदत से लगाव रखती हूँ,

इसलिए मुझे अकेली और निक्कमी मत समझना,

क्योंकि मैं तुमसे प्यार करती हूँ।

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

Friends For Life
We are Friends
I got your back
You got mine,
I'll help you out
Anytime!
To see you hu

KOI DEEWANA THA

Koi Deewana Kehta HaiKoi deewana kehta hai,koi paaga

samajhta hai

magar dharti ki

KYA FARK PADTA HAI

कोई सब कहे, कोई चुप रहे,

तो कोई छाँव,

EK AURAT KE KHILAF

उस एक औरत के खिलाफ 

दुनियादारी क

MERA WATAN WAHI HAI

चिश्ती ने जिस ज़मीं पे पैग़ामे हक़ सु

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Google+ Indyaspeak @ Pinterest RSS