zamane ne mujhe chot di hai


Posted on 6th Feb 2020 12:16 pm by sangeeta

मेरी तस्वीर अपने साथ लेना

अभी हालात से सहमा हुआ हूं

कभी आओ इधर मुझको समेटो

मैं तिनकों सा कहीं बिखरा हुआ हूं

चलो अब पूछना तारों की बातें

अभी मैं आसमां सारा हुआ हूं

मुसलसल बात तेरी याद आई गया

वो वक़्त मैं उलझा हुआ हूंबुरा

कोई नहीं होता जन्म से

मुझे ही देख लो कैसा हुआ हूं

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

A sidelong glance
A sidelong glance,
A funny remark!
Glittering eyes
Meeting in the dark.
Fear

chalo fir se hum bache ban jate hai
होम-वर्क की डांट से बचने के बहाने बनात

Every Thought Of You

 

Each thought of you fills me with sweet emotion;

I give to you my deepest

SACH ME FARK NAHI PADTA

तुम्हे सच में फर्क नहीं पड़ता,

मेरे

JYOTI KA VITAAN HAI

यह अतीत कल्पना,

यह विनीत प्रार्थन

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS



Play Free Quiz and Win Cash