me kon hun


Posted on 14th Feb 2020 01:12 pm by sangeeta

आग हूँ आगाज़ हूँ खुद की गलती छुपाने वाला राज़ हूँ
झूठा हूँ फ़रेबी हूँ कल से डरने वाला आज हूँ
ज़िंदा हूँ मैं ज़िन्दगी में खुद में ही बेतहशा हूँ
सपना हूँ मैं आगे का आज का ज़िंदा लाश हूँ
लम्हा हूँ में बीते कल का आज का बुरा ख्वाब हूँ
गर्मी की धुप सर्दी की छाँव अपने मंज़िल के विपरीत पाव हूँ मैं
उत्तर हूँ मैं आगे का आज का प्रश्न चिन्ह हूँ
धीमा हूँ ज़िन्दगी मैं कल के धावक के लिए तैयार हूँ
गलती हूँ मैं पीछे का आज का नया इंसान हूँ
आग हूँ आगाज़ हूँ खुद की गलती मिटाने वाला आज हूँ !

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

What I Love About You

 

The sparkle in your eye,

The warmth of your skin,

Your breath on m

DESH TABHI BNTA HAI

अलग अलग गलियों कुचों में लोग कोन गिनत

Navigation To Nowhere

 

Maps are complicated

if you aren’t familiar with the place.

badal gaya hai apna desh

तबसे अब में खूब,मचा विकास का जनादेश !

NA RAAT DEKHI NA DIN

चाँद को भी हमने तुम्हारे लिए सजाया है

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS