me kon hun


Posted on 14th Feb 2020 01:12 pm by sangeeta

आग हूँ आगाज़ हूँ खुद की गलती छुपाने वाला राज़ हूँ
झूठा हूँ फ़रेबी हूँ कल से डरने वाला आज हूँ
ज़िंदा हूँ मैं ज़िन्दगी में खुद में ही बेतहशा हूँ
सपना हूँ मैं आगे का आज का ज़िंदा लाश हूँ
लम्हा हूँ में बीते कल का आज का बुरा ख्वाब हूँ
गर्मी की धुप सर्दी की छाँव अपने मंज़िल के विपरीत पाव हूँ मैं
उत्तर हूँ मैं आगे का आज का प्रश्न चिन्ह हूँ
धीमा हूँ ज़िन्दगी मैं कल के धावक के लिए तैयार हूँ
गलती हूँ मैं पीछे का आज का नया इंसान हूँ
आग हूँ आगाज़ हूँ खुद की गलती मिटाने वाला आज हूँ !

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

When You Are Old
When you are old and grey and full of sleep,
And nodding by the fire, take down this book,
And

Doggy Heaven...

All doggies go to heaven (or so I've been told).
They run and play along the streets of Gol

APNA AASMAN HOGA

अरूजे कामयाबी पर कभी तो हिन्दुस्तां

milte agar hum to kya ehsaas hota

मिलते अगर हम तो क्या एहसास होता

धड़

Starting Over...
I’m trying to find something to base my life upon,
Something in this strange world that goes on

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Google+ Indyaspeak @ Pinterest RSS