me kon hun


Posted on 14th Feb 2020 01:12 pm by sangeeta

आग हूँ आगाज़ हूँ खुद की गलती छुपाने वाला राज़ हूँ
झूठा हूँ फ़रेबी हूँ कल से डरने वाला आज हूँ
ज़िंदा हूँ मैं ज़िन्दगी में खुद में ही बेतहशा हूँ
सपना हूँ मैं आगे का आज का ज़िंदा लाश हूँ
लम्हा हूँ में बीते कल का आज का बुरा ख्वाब हूँ
गर्मी की धुप सर्दी की छाँव अपने मंज़िल के विपरीत पाव हूँ मैं
उत्तर हूँ मैं आगे का आज का प्रश्न चिन्ह हूँ
धीमा हूँ ज़िन्दगी मैं कल के धावक के लिए तैयार हूँ
गलती हूँ मैं पीछे का आज का नया इंसान हूँ
आग हूँ आगाज़ हूँ खुद की गलती मिटाने वाला आज हूँ !

0 Like 0 Dislike
Previous poetry Next poetry
Other poetry

Intzaar Kahte Hai

इंकार को इकरार कहते हे
kismat ki baat hai

Kismat kismat ki baat hai

Jab se mila hu tujhse,

Tu mere sath hai

Kismat

KHWABO KA PARDA

Khwabon ka parda yaha par ab,

Ban

TUMHARI HAR EK BAAT NIRALI

Tum ho ek anmol angoothi

 

Ya phir uska koi nageena

 

T

Chandni raaton mein jab

Chaandni Raaton Mein Jab Tu Dekhegi Us Chaand Ko Tab....

Hum Uss Chaand Se Tujhe, Tujh Ko

Sign up to write
Sign up now to share your poetry.
Login   |   Register
Follow Us
Indyaspeak @ Facebook Indyaspeak @ Twitter Indyaspeak @ Pinterest RSS